Friday, 24 October 2014

careless whispers

मुंह चिढाकर मुझको ,
वो भागे झट से मेरे कमरे से /
फिर झट से आकर अन्दर बोले
" इसे प्यार न समझ लेना "/
जब बाहर जाकर देखा तो...
पाया उनको अपने ही आँगन में /
वो निगाहें नीची करके बोले
"इसे इज़हार न समझ लेना "

1 comment:

  1. आपकी लेखनी बेजोड़ है

    आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 19 दिसम्बर 2015 को लिंक की जाएगी ....
    http://halchalwith5links.blogspot.in 
    पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!


    ReplyDelete